शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में 12 से 14 दिसम्बर तक प्रतिभा-पर्व --चौधरी











जन-प्रतिनिधियों से बाल-सभा में शामिल होकर बच्चों का उत्साहवर्द्धन करने का आग्रह


ग्वालियर ।स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने प्रदेश के निर्वाचित जन-प्रतिनिधियों से आग्रह किया है कि शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालयों में 14 दिसम्बर को प्रतिभा-पर्व के अंतर्गत आयोजित बाल-सभा में शामिल होकर बच्चों का उत्साहवर्द्धन करें। डॉ. चौधरी ने जन-प्रतिनिधियों को भेजे गये पत्र में बताया है कि इन विद्यालयों में 12 से 14 दिसम्बर तक प्रतिभा-पर्व का आयोजन किया जा रहा है। यह पर्व विद्यार्थियों की दक्षताओं के सटीक आकलन और शिक्षा संबंधी सुधारात्मक प्रयासों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से आयोजित किया जा रहा है।मंत्री डॉ. चौधरी ने पत्र में बताया है कि प्रतिभा-पर्व में 12-13 दिसम्बर को विद्यार्थियों का शैक्षिक मूल्यांकन किया जाएगा। तीसरे और अंतिम दिन 14 दिसम्बर को विद्यालय में वार्षिकोत्सव होगा, जिसमें बच्चों के पालक और अभिभावक भाग लेंगे। वार्षिकोत्सव में बच्चों के सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा खेलकूद आदि होंगे। इसी दिन बाल-सभा भी आयोजित की जाएगी। डॉ. चौधरी ने जन-प्रतिनिधियों से अनुरोध किया है कि बच्चों की बाल-सभा में शामिल होकर उनकी सांस्कृतिक, साहित्यिक और खेलकूद की गतिविधियों का आनंद लें। उन्होंने कहा कि बाल-सभा में जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति से कार्यक्रम की गरिमा बढ़ेगी और बच्चों का उत्साहवर्द्धन होगा



टिप्पणियाँ
Popular posts
डबरा। पुलिस ने गुंडों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान , पुलिस शराब की दुकान के सामने खड़ी करें डायल 100 जिससे शराबियों में भी रहेगा पुलिस का खौफ अपराधो पर लगेगा प्रश्न चिन्ह।
चित्र
दतिया।दतिया का विकास का रथ अब नहीं रुकेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान, मुख्यमंत्री जी ने रचा इतिहास --डा मिश्रा।
चित्र
मध्यप्रदेश हाईकोर्ट बेंच ग्वालियर का बड़ा फैसला- पॉलिटेक्निक कॉलेजों में लेक्चरर-प्रोफेसरों की गेट 2020 एग्जाम से नियमित भर्ती विज्ञापन एवं भर्ती संबंधित नियम मध्यप्रदेश राजपत्र पर भी रोक लगाई।
चित्र
भोपाल।शिकायतों के आधार पर हटेंगे कर्मचारी तीन वर्ष से एक ही स्थान पर जमे हैं अफसरों के तबादले पर चुनाव आयोग की राहत।
चित्र
बहुजन समाज को जागरूक करने वाले मासीह मान्यवार कांशीराम साहब जी का जन्म दिन 87वे 15मार्च को , बहुजन समाज को भारत सरकार से भारत रत्न की मांग करना चाहिए।
चित्र