भोपाल। (पंचमहलकेसरीअखबार )कांग्रेस भांडेर से बना सकती है उप चुनाव में फूल सिंह बरैया को प्रत्याशी, जीतेंगे 27सीटे

  1. भोपाल। कांग्रेस से सिंधिया समर्थक भाजपा में शामिल हो गए और भाजपा ने लाकडाउन में सरकार बना ली उसके बाद कांग्रेस से एक एक विधायक भाजपा में शामिल हो रहे हैं इसका मतलब यह है कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी संभालने की कोशिश करते हैं जब तक कांग्रेस विधायक कांग्रेस छोड़ कर भाजपा की शरण में चले जाते हैं पंचमहलकेसरीअखबार के संपादक एम एस बिशौटिया ने श्री सरैया से पूछा तो उन्होंने बताया कि कांग्रेस से भाजपा में इसलिए विधायक जा रहे हैं सिर्फ निजी स्वार्थ के लालच में जा रहे हैं लेकिन कांग्रेस के कद्दावर नेता व कार्यकर्ता वोटर श्री कमलनाथ जी के साथ हथियार बन कर खड़े हैं जिसमें फूल सिंह बरैया जैसे कद्दावर नेता कांग्रेस एवं कमलनाथ जी के साथ दलित वोट बैंक लेकर साथ दे रहे हैं फूल सिंह बरैया कहते हैं कि अगर दलित वोट कांग्रेस में ही वोटिंग करेगा क्यो की दलितों का भी भविष्य कांग्रेस में ही हैं और कोई दल में नहीं क्योंकि दलितों को संविधान बचाना है तो कांग्रेसी ही बचा सकती है अन्य कोई नहीं ।क्योंकि भाजपा अन्य दलों के नेताओं को अपने स्वार्थ के लिए तोड़ने में लगी है सभी को साफ दिखाई दे रहा है कि कांग्रेसी विधायक क्यों जा रहे हैं वे लालच में जा रहे उनके जाने से कांग्रेस को कोई फर्क नहीं पड़ता। कांग्रेस में कमलनाथ जी के साथ सभी वर्गों के नेता खड़े हैं जो कांग्रेस के साथ में हैं कोरोना की महामारी का फायदा भाजपा उठा रही है वहां भी उपचुनाव में इसका हर्जाना चुकाना पड़ेगा वो जनता दिखायेगी और 27 सीटें जीत कर कांग्रेस की कमलनाथ सरकार आएगी।


टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। डा अम्बेडकर की प्रतिमा को रात्रि में अज्ञात लोगों ने किया खंडित अज्ञात व्यक्तियों के नाम एफआईआर दर्ज,रखी जायेगी नई प्रतीमा- एसडीएम खेमरिया।
चित्र
डबरा।डा अंबेडकर जी की प्रतिमा का अनावरण समारोह 16अक्टूवार 22 गांव सिसगांव में ।
चित्र
ग्वालियर।एसपी ग्वालियर ने सेवानिवृत्त हुए पुलिस अधिकारी व कर्मियों को दी भावभीनी विदाई।
चित्र
झांसी।कांग्रेस ने खेला कार्ड बहुजन नेता ब्रजलाल खाबरी पूर्व सांसद को बनाया उत्तर प्रदेश का प्रदेश अध्यक्ष ।
चित्र
ग्वालियर।बामसेफ, डीएस-4 बसपा के संस्थापक बहुजन नायक मान्यवर कांशीराम साहब जी के 16 वें महापरिनिर्वाण दिवस पर जिला स्तरीय श्रध्दांजलि सभा 9 अक्टूबर 22 को---सतीश मंडेलिया
चित्र