लखनऊ।राष्ट्रपति के अभिभाषण का किया बहिष्कार, 'निर्दोष किसान नेताओं को बलि का बकरा न बनाए सरकार -मायवती।

 राष्ट्रपति के अभिभाषण का किया बहिष्कार, 'निर्दोष किसान नेताओं को बलि का बकरा न बनाए सरकार -मायवती

लखनऊ। पंचमहलकेसरी9425734503 किसान आंदोलन-बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष बहन मायावती जी ने भी केंद्र सरकार के तीन कृषि कानून के खिलाफ बजट सत्र से पहले संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का विरोध किया। मायावती ने शुक्रवार को दो ट्वीट किए और किसानों के साथ खुलकर आने का फैसला किया।मायावती ने लिखा कि बीएसपी ने देश के किसानों के तीन विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग है मांग को नहीं मानने व जनहित आदि के मामलों में भी केंद्र सरकार का लगातार काफी ढुलमुल रवैया अपनाने के विरोध में राष्ट्रपति के संसद में होने वाले अभिभाषण का बहिष्कार करने का फैसला लिया है।उन्होंने आगे लिखा कि कृषि कानूनों को वापस लेकर दिल्ली आदि में स्थिति को सामान्य करने का केन्द्र से पुनः अनुरोध और गणतंत्र दिवस के दिन हुए दंगे की आड़ में निर्दोष किसान नेताओं को बलि का बकरा न बनाए। इस मामले में यूपी के बीकेयू व अन्य नेताओं की आपत्ति में भी काफी सच्चाई केंद्र सरकार व भाजपा शासित प्रदेश सरकारे ध्यान दे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
अनमोल विचार और सकारात्मक सोच, हिन्दू और बौद्ध विचार धाराओं से मिलते झूलते हैं।.गुरु घासीदास महाराज जयंती पर विशेष
चित्र
कांग्रेस व बसपा को फिर झटका चुनाव में मिलेगा भाजपा को फायदा पूर्व विधायक अजब सिंह कुशवाह,पूर्व विधायक लाखनसिंह बघेल पूर्व जिला अध्यक्ष बसपा सुरेश बघेल भाजपा में शामिल।
चित्र
डबरा। दिब्याशु चौधरी बने डबरा तहसील के नय एसडीएम शहर को मिले नए आईएएस अधिकारी।
चित्र
डबरा। नव नियुक्त आईएएस प्रखर सिंह ने एसडीएम कार्यालय पहुंचकर अपना पदभार संभाला क्या शहर में तत्कालीन आईएएस अधिकारी रही सुश्री रेनू पिल्लेई,डा एम गीता जी जैसे तेजास्वी जैसा रुप दिखा पायेंगे या दोनों नेताओं के इशारे पर काम करेंगे।
चित्र
बहुजन समाज को जागरूक करने वाले मासीह मान्यवार कांशीराम साहब जी का जन्म दिन 87वे 15मार्च को , बहुजन समाज को भारत सरकार से भारत रत्न की मांग करना चाहिए।
चित्र