एक हमसफ़र ऐसा भी( सच्चा प्यार)
 क्या हुआ मुझे दिया नहीं कभी लाखों का हार,
 पर जीवन के हर पल को माला में संजोया है।
क्या हुआ मुझे कभी दिया नहीं कीमती उपहार*
 *पर अपने जीवन के कीमती पल मेरे नाम किए हैं*
 क्या हुआ कभी मुझे महंगी साड़ी गिफ्ट नहीं की
 पर हमारे रिश्तो को एक- एक धागे  में पिरोए रखा है।
 क्या हुआ ऊंचे महलों में नहीं बिठाया कभी हमें 
पर छोटे से घर की एक- एक ईंट में प्यार भर दिया है।
 क्या हुआ कभी हम गए नहीं विदेश घूमने तो
 स्वदेश के हर सुनहरे संगीत से रूबरू करवाया है ।
कभी किया नहीं झूठा वादा कि ताज महल बनवा दूंगा* 
*पर घर के एक कोने में सुंदर सा कमरा हमारे नाम किया है*
क्या हुआ कभी हम धन- दौलत से भरा नहीं हमारा घर*
 *प्यार भरपूर देकर हमें रहीश बना दिया है*।
 दुनिया से अलग है मेरे हमसफर झूठे वादे करते नहीं
 मुझे हमेशा खुश रखते हैं हमारे लिए वही काफी है।
 *देख दुनिया जिन से सीख ले दुनिया ऐसा हमसफर मेरा है। *तभी तो खुदा से सातों जन्म मांगती तुझको हूं।
(लेखिका-सीमा रंगा इन्द्रा हरियाणा)
टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
डबरा।विधायक सुरेश राजे सहित अनेक समाज सेवीयो ने दी जननायक समाज सेवी स्व श्री इन्द्र सिंह राजौरिया को श्रद्धांजलि ।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र