महाराष्ट्र के शिवसेना का मशहूर अख़बार सामना की नई संपादक बनीं रश्मि उद्धव ठाकरे जी . रिपोर्ट : के .रवि ( दादा ) ।



रिपोर्ट : के .रवि (  दादा ) 


मुंबई।मुख्यमंत्री बनने के बाद उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक पद से इस्तीफा दे दिया था और अब रश्मि ठाकरे जी सामना कि संपादक बनी हैं।उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री बनने के बाद संपादक पद खाली  था ।पर अब पहली बार ठाकरे परिवार की बहू संभालेंगी संपादक का पद सामना अख़बार का उगम  23 जनवरी 1988 को बाल ठाकरे  के हाथो हुआ था  । और वे ही इसके संस्थापक संपादक बने थे. बाल ठाकरे के बाद उद्धव ठाकरे ने सामना का प्रभार संभाला था।जो रश्मि ठाकरे  संपादक बनी हैं इस बदलाव  को आज सामना के संस्करण के पहले पन्ने  पर जाहिर किया गया है।रश्मि उद्धव ठाकरे का सामना का संपादक बनने को बड़े राजनीतिक घटनाक्रम के रूप में भी  देखा जा रहा है. यह पहली बार है जब ठाकरे परिवार की बहू सामना की संपादक बनकर पार्टी में कोई बड़ी जिम्मेदारी संभालेगी ।सामना के फूटनोट में संपादक का नाम रश्मि उद्धव ठाकरे छपा है जबकि संजय राऊत कार्यकारी संपादक हैं. बता दें कि सामना मराठी के साथ हिंदी  में भी  प्रकाशित होता है .जबकि इसके  हिंदी संस्करण की  23 फरवरी 1993 से  शुरुवात हुईं थीं  ।बालासाहेब अपने निधन तक यानी 17 नवंबर 2012 तक सामना में लेख लिख रहे थे । उसके बाद उद्धव ठाकरे  शिवसेना पार्टी के साथ सामना अखबार के संपादकीय जिम्मेवारी  ली थी.जो कि उन्होंने बखूबी से निभाई थी ।वहीं 58 साल की रश्मी ठाकरे जी  ने इस खुशी के मौके पर कहा वे संजय राऊत जी के साथ मिलकर काम करेंगी .


Comments
Popular posts
डंपर की चपेट में आने से कमलसिंह उसकी मौत पीछे बैठी केला देवी पत्नी कमल सिंह कुशवाहा गंभीर रूप से घायल लगाया जाम प्रशासन अधिकारी व पूर्व मंत्री, आजाद समाज पार्टी कांशीराम के पदाधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे दिलाया आर्थिक सहायता ।
Image
डाक विभाग के अधिकारियों को भेंट की डा भीमराव अम्बेडकर जी की भीम आर्मी ने तस्वीर ,तो अधिकारी ने तस्वीर पर जूते पहनकर किया माल्यार्पण हैरान रह गए भीम आर्मी के सदस्य ,यह अधिकारी ने किया गलत ---- महाराज राजौरिया
Image
पेट का दर्द दिखाने महिला डॉक्टर को मुरार सरकारी हॉस्पिटल में गई तो डाक्टर ने प्रेगनेंसी के बारे में पूछा लिया कब से हो प्रेग्नेंट युवती जवकि अनमैरिड है युवती ने प्रेगनेंट बारे में केसे पुछा और विरोध किया तो महिला डाक्टर ने गलत शब्दों का इस्तेमाल किया। जिसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज की जांच शुरू । इस मामले को लेकर बड़े बड़े मीडिया ने महिला डाक्टर का वचव पछ छापा गया।
Image
डाक विभाग के अधिकारियों ने मिलकर हटाई वर्षों से लगी डा भीमराव अंबेडकर जी की तस्वीर ।
Image
प्रदेश में अनुसूचित-जाति वर्ग की छात्राओं के लिये 10 छात्रावासों की मंजूरी ।
Image