मुंबई।गरीबो को हेलीकॉप्टर से के . रवि दादा की मुफ्त सवारी ,स्व: माधवराव सिंधिया की प्रेरणा से

 मुंबई | महाराष्ट्र के कोंकण में चिपी हवाई अड्डे का उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया था।  इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया ने मराठी में भाषण दिया।उन्होंने कोंकण महाराष्ट्र और मराठा इतिहास का गौरवपूर्ण उल्लेख करते हुए कहा कि राजा शिवछत्रपति न केवल कोंकण, महाराष्ट्र में बल्कि पूरे विश्व में वीरता के प्रतीक हैं।  खास बात यह है कि उन्होंने कोंकण के प्रति अपने प्यार का इजहार करते हुए यह भी बताया कि उनका मूल महाराष्ट्र में है।
 चिप्पी हवाई अड्डे की अवधारणा हमारे दिवंगत पिता द्वारा पेश की गई थी।  उन्होंने गर्व से कहा कि यह संकल्पना माधवराव सिंधिया की है।
 यह मेरे लिए भी एक रोल मॉडल था, और इसलिए मैं चीजों को परिप्रेक्ष्य में रखना चाहता था।

 माधवराव सिंधिया की सितंबर 2001 में औरंगाबाद में एक विमान दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।
 एक तेजतर्रार और जिम्मेदार व्यक्तित्व समय के पर्दे से परे चला गया।  मैं उनका प्रशंसक था।  क्योंकि उनकी गर्भनाल महाराष्ट्र के शाही परिवार के पास थी।  मराठा साम्राज्य के इतिहास में शिंदे परिवार का प्रमुख स्थान था।  शिंदे राजवंश ने मराठा साम्राज्य के विस्तार में, गिरफ्तारी के दौरान झंडा फहराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।  लंबे समय तक वे केंद्रीय मंत्रिमंडल में महत्वपूर्ण विभागों के प्रभारी थे और उस समय मेरे दिमाग में एक योजना थी।उस योजना को लागू करने के लिए माधवराव सिंधिया से मिलना चाहता था।  योजना मेरे दिमाग में थी और इसे सफल बनाने के लिए मुझे उनके दौरे की जरूरत थी, लेकिन वह उस समय सफल नहीं हो सकीं।हादसे की खबर पढ़कर मैं फौरन औरंगाबाद पहुंचा।  जो वहां मैंने  सहायक पुलिस आयुक्त निकम से मुलाकात की और माधवराव सिंधिया की दुर्घटना पर एक विशेष रिपोर्ट तैयार की और दुर्घटना स्थल की एक तस्वीर भी  प्रकाशित की।हालांकि, माधवराव सिंधिया की स्मृति को अपने दिमाग में रखते हुए, मैंने अपने मन में एक सपना पूरा करने का फैसला किया और काम करना शुरू कर दिया।  यह सिंधिया को श्रद्धांजलि देने जैसा था ।जब से मैं एक बच्चा था, मैं हवाई जहाज से मोहित हो गया था । जब मेरे पिता मुझे साईकिल वगैरह पर घुमाते थे, जब मैं विमान देखता था, तो मैं अकेले विमान को देखता था और खुश होकर चला जाता था, मेरे परिजन   मुझसे कहते थे।थोड़ी देर बाद जब मैं अपने पैरों से दौड़ने लगा तो मुझे एक हवाई जहाज की आवाज सुनाई दी।  मुझे यह जानकर आश्चर्य हुआ कि लोग इसके माध्यम से हवा में यात्रा करते हैं।  मैं विमान पर चढ़ने के लिए परिवार से  जिद कर रहा था। घर के बड़े लोग मुझे परोपकार से समझाते रहे | की उस हवाई जहाज में जाने के लिए बहुत पैसे लगते हैं।लेकिन साथ ही मैंने इसे अपने दिमाग में बिठा लिया  कि , जब मैं बड़ा हूंगा टीवी  बहुत पैसा कमाकर इस हवाई जहाज से यात्रा करूंगा।सौभाग्य से मेरे लिए, जब मैं बड़ा हुआ, तो मुझे वायुदूत के निजी  विमान और सरकारी विमान कंपनी में यात्रा करने का अवसर मिला।लेकिन हर बार मैं अपने बचपन और उस समय विमान के उड़ने और  उतरने के अपने समय के बारे में सोच रहा था और मेरी तो यह इच्छा पूरी हुई।लेकिन अन्य बच्चों और गरीबों के बारे में क्या जो विमान को एक बच्चे के रूप में देखकर उत्साहित हो जाते हैं और हवाई जहाज से यात्रा करना चाह कर भी नहीं कर पाते  हैं।उनकी इच्छा पूरी करने के लिए हम क्या कर सकते हैं।उस समय मैंने अपने दिमाग में एक इवेंट रिपोर्ट तैयार की थी। छोटे बच्चों और गरीबों को एक बार हेलीकॉप्टर से मुफ्त यात्रा करने का मौका देने के लिए यह ऑडिट था।अगर सरकार ने ऐसा करने का फैसला किया तो यह आसानी से संभव हो जाएगा, लेकिन अगर आम आदमी ऐसा करने की ठान ले तो वह इसे वहन नहीं कर पाएगा।  जब मैं इस विचार के साथ  आगे बढ़ा , तब  माधवराव सिंधिया नागरिक उड्डयन मंत्री थे।जैसा मैंने तय किया था, मैंने उनसे मिलने की कोशिश करना शुरू कर दिया।  लेकिन इससे पहले कि वह और मैं मिल पाते, औरंगाबाद में उनकी दुर्घटनावश मृत्यु हो गई।  उन पर रिपोर्ट लिखते समय, हर वाक्य ने मुझे उनसे मिलने की इच्छा और मेरे हेलीकॉप्टर इवेंट की याद दिला दी।आखिरकार मेरा खुद का यह अनोखा हेलीकॉप्टर इवेंट पुरा होने समय आया।  हम महाराष्ट्र के मशहूर परम पावन गगनगिरी महाराज का एक कार्यक्रम आयोजित करके हेलीकॉप्टर का इवेंट के साथ व्यवसाय  करने में भी  सक्षम थे।  माधवराव शिबडियास को याद करते हुए, मैंने हेलीकॉप्टर के कई सामाजिक कार्यक्रम किए और इस आय में से कुछ, यानी लाभ का हिस्सा अनोखे खुशियों भरे  'मनोरंजन' के रूप में खर्च करने का फैसला किया। इच्छा समाप्त हुई।एक निश्चित संख्या में बच्चों के  साथ साथ गरीबों को हवा में उड़ान भरने की अनुमति होगी तो , वहीं, कई लोगों की उड़ने की इच्छा होती है लेकिन किसी कारणवश यह संभव नहीं हो पाता।  वह इसे संभव बनाने में सक्षम हो गए ।तब से, मैंने हर साल कई बच्चों और सामान्य और गरीब परिवारों के छात्रों के साथ-साथ सेवानिवृत्त कर्मचारियों और वरिष्ठ नागरिकों, विकलांग बच्चों, लड़कियों, मानसिक रूप से मंद बच्चों, कैंसर से पीड़ित बच्चों, कुपोषित बच्चों, आदिवासी जोड़ों, निराश्रितों के लिए काम किया है। बुजुर्ग जोड़ों, विधवाओं और बेसहारा लोगों के लिए हेलीकॉप्टर से हमारे इंडिया मीडिया लिंक और इवेंट मैनेजमेंट सोशल मैनेजमेंट के माध्यम से कई लोगों के लिए मुंबई दर्शन योजना हमारे जरिए शुरू की  और सचमुच सैकड़ों बच्चों, लोगों और कई वरिष्ठों के चेहरे पर हमने खुशी देखी है। इस मौके पर , उस समय मैं अपने आप को अत्यंत भाग्यशाली मानता हूँ।
 वे खूबसूरत यादें मुझे हर साल इस योजना को लागू करने में जबरदस्त उत्साह देती हैं और उन लाभार्थियों के चेहरे पर संतुष्टि देखकर मुझे एक अलग तरह की खुशी मिलती है।विशेषताएं यदि आप भारत में कहीं भी खोजते हैं, तो आप पाएंगे कि इवेंट मैनेजमेंट की दुनिया में सिर्फ पैसा कमाने के बारे में है।  इसी विषय पर हमने शायद इतिहास रच दिया है जो बचपन से ही हवा में उड़ने की इच्छा तो हमने हवाई जहाज के बदले हेलीकॉप्टर से तो पूरी कर यह बता दिया है कि इंडिया मीडिया लिंक एंड इवेंट्स मैनेजमेंट, एक अनोखा पर आकर्षक सोशल इवेंट मैनेजमेंट हैं जिसने मुंबई में सबसे गरीब से गरीब के साथ कई आईएएस अफसर , यद्यमी , फिल्मी सितारे , राजनेता एवम दोस्तो और संगेसाथियों को मुफ्त में  हेलीकॉप्टर से मुंबई दर्शन करवाया जो आज के हमारे जन्म दिन के शुभ मौके पर आपसे शेयर कर रहे है।
Comments
Popular posts
22 नवंबर को वृत्त एवं संभागीय मुख्यालयों पर आयोजित होंगे समाधान योजना शिविरनिम्न आय घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को दिया जाएगा समाधान योजना का लाभ।
Image
दतिया।गृह मंत्री ने कमथरा को दी एक करोड़ के विकास कार्यो की सौगात दस वर्षों में दतिया विधानसभा की बदली तस्वीर, डा नरोत्तम मिश्रा ।
Image
ग्वालियर।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का विमानतल पर आत्मीय स्वागत ,शिवराज महीने में आते हैं कई वार जिले से लगाव है सबसे ज्यादा।
Image
26 नवम्बर को प्रदेश की बाल देख-रेख संस्थाओं और आँगनवाड़ी केन्द्रों में मनेगा संविधान दिवस।
Image
दतिया।गृह मंत्री डॉ. मिश्र ने संविधान निर्माता डॉ. अम्बेड़कर की प्रतिमा का किया अनावरणदतिया विधानसभा में सर्वाधिक बाबा साहब की मूर्तियां स्थापित की गई।
Image