सुनो जरा मोल दाने का लगाने वालों लेखक बलरामरोरियाशिक्षकडबरा

माटी में सना ,माटी से बना

माटी में रंगा, माटी में बसा

वो किसान क्यों बेबस हुआ?

जीवन उगाकर जिसने जीवन दिया

मोल उसका मिट्टी क्यों हुआ?


सुनो ,ज़रा मोल दाने का लगाने वालों

कुछ भाव इनका भी हमें बतलाओ ना

धरती की धानी ओढ़नी का 

मोल क्या होगा ज़रा समझाओ ना?

उन पैरों की ख़ूनी बिवाइयों का

तोड़ कोई ले आओ ना 

जाड़े की ठिठुरती अधसोई रातों का

हिसाब ठीक ठीक लगाओ ना


मसलना निरीह को सदा ही

शौक सत्ताधीशों का रहा है

नहीं सुन पाते हैं अब वो

अर्ज़ियाँ बेबस और लाचारों की

दोष इसमें उनका है ही नहीं

सब दोष सिंहासन का है

उदर हैं सन्तुष्ट जिनके

वो अधखाये की पीर कैसे जान पाएंगे?

सुनाकर फ़रमान अपना

तुझे खेतों में ही फेंक आएंगे

टिप्पणियाँ
Popular posts
अनमोल विचार और सकारात्मक सोच, हिन्दू और बौद्ध विचार धाराओं से मिलते झूलते हैं।.गुरु घासीदास महाराज जयंती पर विशेष
चित्र
डबरा। हर्सोल्लास के साथ मनाया गया 75 वे गणतंत्र दिवस पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों की दी गई प्रस्तुतियां, झंडा फहराया गया मुख्यमंत्री का संदेश वचन एसडीएम ने सुनाया
चित्र
दतिया।प्राकृतिक आपदा अति वर्षा से जिले के किसानों की नष्ट हुई फसलो का मुआवजा राहत राशि दिलाने कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के नाम एडीएम को सौपा ज्ञापन।
चित्र
डबरा। दिब्याशु चौधरी बने डबरा तहसील के नय एसडीएम शहर को मिले नए आईएएस अधिकारी।
चित्र
डबरा। नामदेव समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष का अल्प समय में ग्वालियर से झांसी निकलते समय डबरा के नामदेव समाज ने पिछोर तिराहा पर स्वागत किया।
चित्र