सुनो जरा मोल दाने का लगाने वालों लेखक बलरामरोरियाशिक्षकडबरा

माटी में सना ,माटी से बना

माटी में रंगा, माटी में बसा

वो किसान क्यों बेबस हुआ?

जीवन उगाकर जिसने जीवन दिया

मोल उसका मिट्टी क्यों हुआ?


सुनो ,ज़रा मोल दाने का लगाने वालों

कुछ भाव इनका भी हमें बतलाओ ना

धरती की धानी ओढ़नी का 

मोल क्या होगा ज़रा समझाओ ना?

उन पैरों की ख़ूनी बिवाइयों का

तोड़ कोई ले आओ ना 

जाड़े की ठिठुरती अधसोई रातों का

हिसाब ठीक ठीक लगाओ ना


मसलना निरीह को सदा ही

शौक सत्ताधीशों का रहा है

नहीं सुन पाते हैं अब वो

अर्ज़ियाँ बेबस और लाचारों की

दोष इसमें उनका है ही नहीं

सब दोष सिंहासन का है

उदर हैं सन्तुष्ट जिनके

वो अधखाये की पीर कैसे जान पाएंगे?

सुनाकर फ़रमान अपना

तुझे खेतों में ही फेंक आएंगे

टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर।सीएम हैल्पलाइन में दर्ज प्रकरणों का निराकरण सर्वोच्च प्राथमिकता से करें , कलेक्टर के आदेश पर सीएम हैल्पलाइन में दर्ज प्रकरणो पर अधिकारी नहीं कर रहे अमल अधिकारियों की लापरवाही, नगर पंचयात परिषद भितरवार में है लंबित कई मामले।
चित्र
डबरा।डा अंबेडकर जी की प्रतिमा का अनावरण समारोह 16अक्टूवार 22 गांव सिसगांव में ।
चित्र
ग्वालियर। डा अम्बेडकर की प्रतिमा को रात्रि में अज्ञात लोगों ने किया खंडित अज्ञात व्यक्तियों के नाम एफआईआर दर्ज,रखी जायेगी नई प्रतीमा- एसडीएम खेमरिया।
चित्र
डबरा।भारत में ईवीएम मशीन हाटाओ संविधान बचाओ को लेकर एक दिवसीय बहुजन समाज का आयोजन 25 सितबर 22को सिमरिया टेकरी पर।
चित्र
ग्वालियर। बहुजन दिव्याक विश्व तैराक सत्येंद्र लोहिया को मध्यप्रदेश सरकार द्वारा सर्वोच्च खेल पुरस्कार विक्रम अवॉर्ड से नवाजा प्रधानमंत्री जी शिवराजसिंह चौहान ने दी शुभकामनाएं।
चित्र