सुनो जरा मोल दाने का लगाने वालों लेखक बलरामरोरियाशिक्षकडबरा

माटी में सना ,माटी से बना

माटी में रंगा, माटी में बसा

वो किसान क्यों बेबस हुआ?

जीवन उगाकर जिसने जीवन दिया

मोल उसका मिट्टी क्यों हुआ?


सुनो ,ज़रा मोल दाने का लगाने वालों

कुछ भाव इनका भी हमें बतलाओ ना

धरती की धानी ओढ़नी का 

मोल क्या होगा ज़रा समझाओ ना?

उन पैरों की ख़ूनी बिवाइयों का

तोड़ कोई ले आओ ना 

जाड़े की ठिठुरती अधसोई रातों का

हिसाब ठीक ठीक लगाओ ना


मसलना निरीह को सदा ही

शौक सत्ताधीशों का रहा है

नहीं सुन पाते हैं अब वो

अर्ज़ियाँ बेबस और लाचारों की

दोष इसमें उनका है ही नहीं

सब दोष सिंहासन का है

उदर हैं सन्तुष्ट जिनके

वो अधखाये की पीर कैसे जान पाएंगे?

सुनाकर फ़रमान अपना

तुझे खेतों में ही फेंक आएंगे

Comments
Popular posts
स्मार्ट सिटी के तारामंडल में शहरवासी कर सकेगे आकाशगंगा की सैर -श्रीमती जयति सिंह
Image
प्रदेश में अनुसूचित-जाति वर्ग की छात्राओं के लिये 10 छात्रावासों की मंजूरी ।
Image
पेट का दर्द दिखाने महिला डॉक्टर को मुरार सरकारी हॉस्पिटल में गई तो डाक्टर ने प्रेगनेंसी के बारे में पूछा लिया कब से हो प्रेग्नेंट युवती जवकि अनमैरिड है युवती ने प्रेगनेंट बारे में केसे पुछा और विरोध किया तो महिला डाक्टर ने गलत शब्दों का इस्तेमाल किया। जिसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज की जांच शुरू । इस मामले को लेकर बड़े बड़े मीडिया ने महिला डाक्टर का वचव पछ छापा गया।
Image
डाक विभाग के अधिकारियों को भेंट की डा भीमराव अम्बेडकर जी की भीम आर्मी ने तस्वीर ,तो अधिकारी ने तस्वीर पर जूते पहनकर किया माल्यार्पण हैरान रह गए भीम आर्मी के सदस्य ,यह अधिकारी ने किया गलत ---- महाराज राजौरिया
Image
डाक विभाग के अधिकारियों ने मिलकर हटाई वर्षों से लगी डा भीमराव अंबेडकर जी की तस्वीर ।
Image