सुनो जरा मोल दाने का लगाने वालों लेखक बलरामरोरियाशिक्षकडबरा

माटी में सना ,माटी से बना

माटी में रंगा, माटी में बसा

वो किसान क्यों बेबस हुआ?

जीवन उगाकर जिसने जीवन दिया

मोल उसका मिट्टी क्यों हुआ?


सुनो ,ज़रा मोल दाने का लगाने वालों

कुछ भाव इनका भी हमें बतलाओ ना

धरती की धानी ओढ़नी का 

मोल क्या होगा ज़रा समझाओ ना?

उन पैरों की ख़ूनी बिवाइयों का

तोड़ कोई ले आओ ना 

जाड़े की ठिठुरती अधसोई रातों का

हिसाब ठीक ठीक लगाओ ना


मसलना निरीह को सदा ही

शौक सत्ताधीशों का रहा है

नहीं सुन पाते हैं अब वो

अर्ज़ियाँ बेबस और लाचारों की

दोष इसमें उनका है ही नहीं

सब दोष सिंहासन का है

उदर हैं सन्तुष्ट जिनके

वो अधखाये की पीर कैसे जान पाएंगे?

सुनाकर फ़रमान अपना

तुझे खेतों में ही फेंक आएंगे

टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर।चयनित शिक्षक संघ वर्ग एक के शिक्षकों ने दिया कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पटवारी को ज्ञापन
चित्र
जिला ग्वालियर आयुष अधिकारी ने किया वेलनेस सेंटर का औचक निरीक्षण जांचा पंजी रजिस्टर कई सालों से आयुष प्रभारी पदस्थ हैं सेंटर पर उसी गांव के रहने वाले हैं राजनीतिक नेताओं से संपर्क होने से सेंटर प्रभारी इसलिए करते मनमानी।
चित्र
अनमोल विचार और सकारात्मक सोच, हिन्दू और बौद्ध विचार धाराओं से मिलते झूलते हैं।.गुरु घासीदास महाराज जयंती पर विशेष
चित्र
महान समाज सेवक संत गाडगे बाबा की पुण्य तिथि पर विशेष
चित्र
मुख्यमंत्री मोहन यादव के राज्य में अधिकारियों के हौसले बुलंद एसडीएम ने पैरों में जूते पहनने के बाद महिला से जूते के लेंस बंधवाते हुए सोशल मीडिया पर वीडियो फोटो वायरल इससे लगता है मनुस्मृति शूरू हो रही है।
चित्र