सुनो जरा मोल दाने का लगाने वालों लेखक बलरामरोरियाशिक्षकडबरा

माटी में सना ,माटी से बना

माटी में रंगा, माटी में बसा

वो किसान क्यों बेबस हुआ?

जीवन उगाकर जिसने जीवन दिया

मोल उसका मिट्टी क्यों हुआ?


सुनो ,ज़रा मोल दाने का लगाने वालों

कुछ भाव इनका भी हमें बतलाओ ना

धरती की धानी ओढ़नी का 

मोल क्या होगा ज़रा समझाओ ना?

उन पैरों की ख़ूनी बिवाइयों का

तोड़ कोई ले आओ ना 

जाड़े की ठिठुरती अधसोई रातों का

हिसाब ठीक ठीक लगाओ ना


मसलना निरीह को सदा ही

शौक सत्ताधीशों का रहा है

नहीं सुन पाते हैं अब वो

अर्ज़ियाँ बेबस और लाचारों की

दोष इसमें उनका है ही नहीं

सब दोष सिंहासन का है

उदर हैं सन्तुष्ट जिनके

वो अधखाये की पीर कैसे जान पाएंगे?

सुनाकर फ़रमान अपना

तुझे खेतों में ही फेंक आएंगे

Comments
Popular posts
डबरा/बिलौआ। प्रधानमंत्री आवास योजना में 7 पटवारी एवं तीन कर्मचारी दोषी अब देखना है क्या दोषियों को ईओडब्ल्यू जांच करेगा इन दोषियों की चल अचल संपत्ति की ।
Image
डबरा। जनता के लिए विधायक निधि से बनाया लाखों रुपए का प्रतिक्षालय क्षतिग्रस्त। मुझे इसकी जानकारी नहीं में दिखवता हूं में अभी भोपाल में हूं आने पर बनवाया जायेगा। सुरेश राजे विधायक डबरा।
Image
डबरा।एसडीएम प्रदीप कुमार शर्मा गांव धई से सरकारी भूमि को कब करायेगे मुक्त पटवारी आर आई की लापरवाही।
Image
डबरा।कवि रज्जन जी की चौदहवीं पुण्यतिथि पर कवि गोष्ठी व सम्मान समारोह संपन्न।
Image
भोपाल।समय-सीमा में पूरी करें नगरीय निकाय निर्वाचन की तैयारीआयुक्त राज्य निर्वाचन आयोग श्री सिंह ने समीक्षा बैठक में दिये निर्देश।
Image