राष्ट्रीय बालिका दिवस पर हदय के उदगार स्वरचित रचना की कुछ पंक्तियो के माध्यम से समर्पित कर रहा हूँ - लेखक योगेश्वरशर्मा जी।
पंचमहलकेसरी9425734503
राष्ट्रीय बालिका दिवस  पर हदय के उदगार स्वरचित रचना की कुछ पंक्तियो के माध्यम से समर्पित कर रहा हूँ  - लेखक योगेश्वरशर्मा जी
मेरे लिए तो  खास है बेटियां,
मानो जीवन का सुखद एहसास है बेटियां।
चिड़ियों की चहक सी है बेटियां,
मोगरे की महक सी है बेटियां ।
गुलाब सी अभिराम है बेटियां ,
मेरे तो श्रीराम ही है बेटियां ।
ममता की मूरत सी है बेटिया,
प्रभात की ओंस की बूंद सी खूबसूरत है बेटियां ।
त्याग की परिभाषा है बेटियां, 
जीवन के झंझावात में आशा है बेटियां ।
निर्मल नीर में चंदबिम्ब सी है बेटियां,
सौरभ पल्लव युक्त कदंब सी है बेटियां ।
साँसों का स्पंदन है बेटियां ,
जीवन शोणित का संचरण है बेटियां ।
अलभोर की पहली किरण सी है बेटियां ।
दिन रूपी दुल्हन के आभरण सी है बेटियां ।
पूर्णिमा की चंद्रकला सी है बेटियां ,
ईश्वर की अनुपम  कला सी है बेटियां ।
श्याम की मुरली की मधुर तान है बेटियां,
शारदेय वीणा का मधुर गान है बेटियां ।
काली की गंभीर हुँकार है बेटियां ,
कलुषता का गंभीर प्रतिकार है बेटियां ।
मेरे सभी सद्कर्मो का सुफल है बेटियां,
मेरे जीवन आंगन का मंगलफल है बेटियां ।
बेटियां है तो कल, आज औऱ कल है,
बेटियां है तो जीवन का पल, हर पल है ।
बेटियां है तो जीवन अविराम है,
औऱ बेटियां नही तो फिर पूर्णविराम है ।
तो आओ बेटी  को बचाने और बढ़ाने की शपथ खाते है,
चलो,इसी बहाने ईश्वरीय सेवा का पथ अपनाते है ।
लेखक---योगेश्वर शर्मा जोनल ग्वालियर इंटेलिजेंस मध्य प्रदेश
टिप्पणियाँ
Popular posts
डबरा। पुलिस ने गुंडों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान , पुलिस शराब की दुकान के सामने खड़ी करें डायल 100 जिससे शराबियों में भी रहेगा पुलिस का खौफ अपराधो पर लगेगा प्रश्न चिन्ह।
चित्र
भोपाल।शिकायतों के आधार पर हटेंगे कर्मचारी तीन वर्ष से एक ही स्थान पर जमे हैं अफसरों के तबादले पर चुनाव आयोग की राहत।
चित्र
ग्वालियर।(9425734503) बहुजन समाज के हितों की लड़ाई के लिए हुआ समतामूलक समाज पार्टी किया गठन, बने राष्ट्रीय अध्यक्ष डा रावण वर्मा ।
चित्र
डबरा। बहुजन समाज के वरिष्ठ समाजसेवी दादा कन्हैयालाल मल्होत्रा छोड़ा वाले जी का आकस्मिक निधन समाज को हुई छति।
चित्र
तनुश्री दत्ता ने आज कंहा नाना पाटेकर मतलब दुसरा आसाराम बापू । रिपोर्ट : के.रवि ( दादा ) 
चित्र