छिन गया मुँह से निवाला आते ही चुनाव का मौसम
 ** छिन गया मुँह से निवाला **
आते ही चुनाव का मौसम,
रहबरों ने बदला पाला,
उड़ा रहे नफ़रतों के गुब्बारें,
सज रहा फिर ज़हर का प्याला।
विकास कोसों दूर रहा,
आम  का निकला दिवाला,
अच्छे दिनों की आस में
छिन गया मुँह से निवाला।
दर दर भटक रहा नौजवान,
झूठ फ़रेब का बोलबाला,
हक़ माँगना गुनाह हुआ,
जड़ दिया मुँह पर ताला।
मज़हब के ढोंगी पहरुओं ने,
धरम के नाम पर धंधा खोला,
स्वर्ग नरक का देकर झाँसा,
भर रहे खुद माया से झोला।
एस. आर. शेंडे,सौंसर, छिंदवाड़ा, मध्यप्रदेश whatsapp = 8103681228
टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर(एम एस बिशौटिया संपादक)फूल सिंह बरैया की बेटी की शादी का अनोखा कार्ड चर्चा में।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र