अनूपपुर/रामनगर(सूमिता शर्मा ब्यूरो प्रमुख ) पूर्व मस्टर श्रमिकों ने सीनियारिटी के आधार पर मांगा रोजगार एवं 7 बिंदुओं पर प्रस्तुत किया ज्ञापन ।
राजनगर ।सूमिता शर्मा  ब्यूरो प्रमुख -नगर परिषद बनगवां में मौजूद कोलाहल थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। आज दिनांक 9 मई 2023 को, नगर परिषद बनगवां में. पूर्व कार्यरत दैनिक मस्टर श्रमिको ने. अपने कार्य से पृथक किए जाने के खिलाफ में नगर परिषद बनगवां मे हुई धांधली का खुलासा करते हुए कुल 7 बिंदुओं में ज्ञापन लिखकर मुख्य नगर परिषद अधिकारी को सुपुर्द किया जिसकी बातों का जवाब 7 दिवस के भीतर न मिलने पर नगर परिषद बनगवां को ही जिम्मेदार ठहराते हुए क्रमिक भूख हड़ताल की बात कही गयी है।
                       यह है ज्ञापन की मांगे
ज्ञापन में मुख्य रुप से प्रस्तुत किए गए 7 मांगो पर यदि गौर किया जाए तो हम उसे नीचे ज्ञापन में लिखी गयी बातों के अनुसार पढ़ सकते है।
                           ◆◆●●ज्ञापन●●◆◆
विदित हो कि बीते दिनांक 13/04/2023 को एक सूची जारी की गई थी. जिनमे संयुक्त संचालक शहडोल के पत्र क्रमांक 806/स.स./2023/शहडोल- दिनांक 05/04/2023 के तहत कार्यालय साधारण संचालन हेतु 72 मस्टर श्रमिकों की स्वीकृति का हवाला देकर 27 लोगों के नाम जारी किए गए थे एवं बाकी के अन्य श्रमिको को कार्य से पृथक कर दिया गया था।
उक्त लिखित आदेश के तहत, आज हम नगर परिषद के पूर्व कर्मी. आपसे यह जानकारी मांगने के लिए ज्ञापन सौंप रहे है जो नीचे बिंदुवार अंकित है;
1) - नगर परिषद बनगवां में कार्यरत 72 कर्मचारियों की अधिकृत सूची एक साथ जारी की जाए।
विदित हो कि अब तक सिर्फ 27 कर्मचारियों के नाम ही सार्वजनिक हुए है, साथ ही मौखिक रूप से 40 सफाई कर्मचारी कार्यरत है यह बताया गया था जिनके नाम भी अब तक जारी नहीं किए गए है और 13 अप्रैल के आदेशानुसार 27 कर्मचारी एवं मौखिक रूप से बताए गए 40 कर्मचारियों के अलावा भी 5 कर्मचारी रिक्त बचते है. उक्त सभी के नाम अब तक जारी नहीं किए गए है।
2) - विदित हो कि दैनिक समाचार पत्र में दिनांक 1/05/2023 को विभिन्न अखबारों में प्रकाशन किया गया था जिसके अनुसार 72 मस्टर रोल कर्मचारियों का प्रस्ताव पीआईसी रजिस्टर में पारित किया गया था।
खबर के ही अनुसार कुछ पी आई.सी सदस्यों द्वारा इस प्रस्ताव का खंडन भी किया गया था। 
अतः आपसे निवेदन है कि इस, पी.आई.सी प्रस्ताव की रजिस्टर छाया प्रति प्रदान करें।
3) - जिन कर्मचारियों को नगर परिषद में रखा गया है उन सभी के कार्यपद एवं योग्यता को सार्वजनिक किया जाए।
4) - कोरोना काल से जो भी कर्मचारी नगर परिषद जो लगभग 2 से ढाई वर्ष कार्यरत रहे, उनके हटाए जाने का कारण बताइए।
5) - विदित हो कि दिसम्बर माह में मुख्य नगर परिषद अधिकारी द्वारा 72 कर्मचारियों की सूची प्रस्तुत किया गया था एवं यह हवाला गया था कि सूची से बाहर अन्य नगर परिषद कर्मियों को निकाय में आवश्यकता पड़ने पर सूचित किया जाएगा एवं उन्हें प्राथमिकता दिया जाएगा। विदित हो निकाय में नए मस्टर रोल कर्मियों को काम पर रखा गया है। 
इन नए कर्मचारियों को कार्य पर कैसे रखा गया जबकि मुख्य नगर परिषद अधिकारी द्वारा पूर्व में कार्यरत कर्मचारियों को प्राथमिकता देने का आश्वासन दिया गया था।
6)- विदित हो कि नगर परिषद बनगवां द्वारा दिनांक 02/09/2022 को जारी किए पत्र क्रमांक 2185/न.परि./2022 में निम्न बातों का उल्लेख है-
" मुख्य नगर परिषद अधिकारी द्वारा पत्र में यह हवाला दिया गया है कि उच्च अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि द्वारा लगातार दबाव बनाकर बाहरी श्रमिको को अतिरिक्त तौर पर रखा गया जिसमें श्रमिको की संख्या अत्यधिक हो गई जिसमें नगर परिषद में श्रमिकों को वेतन भुगतान में परेशानी आने लगी एवं स्थानीय श्रमिको को रोजगार न मिलने के कारण लगातार विरोध हो रहा था। नई परिषद बनने के बाद स्थानीय श्रमिको का और ज्यादा दबाव बना जिससे अध्यक्ष महोदय से विचार विमर्श कर यह निर्णय लिया गया की जो श्रमिक बनगवां राजनगर से बाहर है उन्हें कार्य से पृथक किया जावे।"
अतः नगर परिषद अधिकारी महोदय यह जवाब दे कि जो कर्मचारी बाहरी है एवं कूटरचित तरीके से अपना एड्रेस प्रूफ बनगवां का बनाए है, उन्हें किस आधार पर रखा गया है।अन्यथा उन सभी बाहरी कर्मचारियों को उक्त पत्र के आदेशानुसार पृथक किया जाए
7) विदित है कि पृथक किए गए कर्मचारी जब भी मुख्य नगर परिषद अधिकारी के पास रोजगार के संबंधित बात करते हैं तो नगर परिषद अधिकारी बनगवा राजनगर द्वारा यह हवाला दिया जाता है कि दैनिक वेतन भोगी / मास्टर श्रमिक रखने का प्रावधान ही नहीं है जब मुख्य नगर परिषद अधिकारी बनगवां को मास्टर श्रमिक का आदेश ही नहीं था तब उनके द्वारा मास्टर श्रमिक किस आधार पर रखा गया था एवं संयुक्त संचालक नागरिक प्रशासक एवं विकास शहडोल संभाग मध्य प्रदेश के द्वारा पत्र क्रमांक 910/ सं.सं/2020 में भी   दैनिक वेतन भोगी / मास्टर श्रमिकों को कार से पृथक करने की कार्यवाही का आदेश दिया था और जब दैनिक वेतन भोगी / मास्टर श्रमिकों जब पूरी तरह से बंद है तो इन 72 कर्मचारियों को किस आदेश से रखा गया है?
उक्त प्रस्तुत मांगो को लेकर नगर परिषद बनगवां के 20 पूर्व मस्टररोल कर्मियों ने 7 दिवस के भीतर कार्यवाही न होने पर क्रमिक भूख हड़ताल का दावा करते हुए सीएमओ बनगवां को सामूहिक रूप से ज्ञापन प्रस्तुत किया।
                    इनका कहना है:-
ज्ञापन का जवाब दिया जाएगा।
राजेन्द्र कुशवाहा
मुख्य नगर परिषद अधिकारी, बनगवां
टिप्पणियाँ
Popular posts
अनमोल विचार और सकारात्मक सोच, हिन्दू और बौद्ध विचार धाराओं से मिलते झूलते हैं।.गुरु घासीदास महाराज जयंती पर विशेष
चित्र
भितरवार। (राजकुमार श्रीवास्तव)प्रशासन ने एक करोड़ की सरकारी भूमि कराई अतिक्रमण से मुक्त ।35 बीघा सरकारी भूमि में खड़ी गेहूं की फसल को काट कर किया गया जप्त।
चित्र
भितरवार । पटवारी ने किया गृहमंत्री जी के लिए गलत शब्द का प्रयोग मेघासिह ने की गृहमंत्री से पटवारी की शिकायत।
चित्र
डबरा। हर्सोल्लास के साथ मनाया गया 75 वे गणतंत्र दिवस पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों की दी गई प्रस्तुतियां, झंडा फहराया गया मुख्यमंत्री का संदेश वचन एसडीएम ने सुनाया
चित्र
दतिया।प्राकृतिक आपदा अति वर्षा से जिले के किसानों की नष्ट हुई फसलो का मुआवजा राहत राशि दिलाने कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के नाम एडीएम को सौपा ज्ञापन।
चित्र