सुपरस्टार रजनीकांत जि की फिल्म दरबार की टिकिटे  मुफ्त में  बांटी ,महाराष्ट्र राज्य मुख्य रजनी जनसेवा संस्था का अनोखा उपक्रम । 


रिपोर्ट : के.रवि ( दादा ) 
मुंबई।मुबंई शहर का मशहूर सायन कोलीवाड़ा इलाका .इस इलाके में पिछले कई सालो से जैसे बड़े पैमाने पर बुद्धिस्ट, पंजाबी  लोग रहते है वैसे ही साऊथ के लोगों का भी यहां बड़ा बसेरा है .जिनके मनोरंजन के लिऐ पिछले कई सालों से पूर्ण मुंबई में सिर्फ   पुराने जमाने का रूपम और अभी का पिविआर एवम्  माटूंगा का अरोरा नामक थेटर है . जंहा सालो से हिंदी फिल्मों के साथ साथ दक्षिण के लोगो के साऊथ की भी फिल्में प्रदर्शित हुआ करती है .जो कि आज भी अरोरा और अभी के पिविआर में जारी हैं . जिसपर सायन कोलीवाड़ा या धारावी में रहने वाले दक्षिणी युवाओं के  मनोरंजन के लिए यह थेटर आकर्षित मंदिर ही बन चुका है . जंहा आज सुपरस्टार रजनीकांत जी फिल्म दरबार की 
टिकिटे मुक्त में ऑडियंस को बांटी गई .यह काम पिछले कई सालो से महाराष्ट्र राज्य मुख्य रजनी जनसेवा संस्था की ओर से संस्था के अध्यक्ष श्री . थलपती शशि के आदीमुलम , सी वेलुमुरुगन ,रजनी शिवकुमार , राज्य सचिव लता मनिमारन , एस. प्रभु व्ही रमेश , जम्बो सनमुगम जैसे रजनीकांत के कार्यकर्ता  सफल करते आए है जैसे के  आज भी सैकड़ों के तादाद में लोग मौजूद थे . मरामुरज संस्था ने दरबार फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर काफी सफलता मिले इसलिए कुदरत के पास प्रार्थना भी की है जिसके लिए पीविआर के ऑर्गनाइजेशन ने भी उन्हें  अच्छा सपोर्ट किया .


टिप्पणियाँ
Popular posts
डबरा। पुलिस ने गुंडों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान , पुलिस शराब की दुकान के सामने खड़ी करें डायल 100 जिससे शराबियों में भी रहेगा पुलिस का खौफ अपराधो पर लगेगा प्रश्न चिन्ह।
चित्र
दतिया।दतिया का विकास का रथ अब नहीं रुकेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान, मुख्यमंत्री जी ने रचा इतिहास --डा मिश्रा।
चित्र
मध्यप्रदेश हाईकोर्ट बेंच ग्वालियर का बड़ा फैसला- पॉलिटेक्निक कॉलेजों में लेक्चरर-प्रोफेसरों की गेट 2020 एग्जाम से नियमित भर्ती विज्ञापन एवं भर्ती संबंधित नियम मध्यप्रदेश राजपत्र पर भी रोक लगाई।
चित्र
भोपाल।शिकायतों के आधार पर हटेंगे कर्मचारी तीन वर्ष से एक ही स्थान पर जमे हैं अफसरों के तबादले पर चुनाव आयोग की राहत।
चित्र
बहुजन समाज को जागरूक करने वाले मासीह मान्यवार कांशीराम साहब जी का जन्म दिन 87वे 15मार्च को , बहुजन समाज को भारत सरकार से भारत रत्न की मांग करना चाहिए।
चित्र