डाक विभाग के अधिकारियों को भेंट की डा भीमराव अम्बेडकर जी की भीम आर्मी ने तस्वीर ,तो अधिकारी ने तस्वीर पर जूते पहनकर किया माल्यार्पण हैरान रह गए भीम आर्मी के सदस्य ,यह अधिकारी ने किया गलत ---- महाराज राजौरिया
 महाराज सिंह राजौरिया प्रदेश संयोजक  अनुसूचित जाति विभाग कांग्रेस म.प्र.
डबरा । देश आजाद होने के बाद इस देश में कानून व्यवस्था संविधान के अनुसार चल रही है लेकिन  कुछ मनुवादी व्यवस्था  को जबरन चलते हैं चाहे वे अधिकारी कर्मचारी हो या नेता  अन्य समाज के लेकिन जब जब  समाज में चेतना आई है तब तब  समाज के लोगों ने संघर्ष किया है चाहे वह  सरकार के बलबूते पर 2006मे सिमरिया टेकरी पर बने अंबेडकर पार्क पर  मनुवादी व्यवस्था को बदलने वाले लोगों ने हटाने को की कोशिश की हो, दो अप्रैल 2018 हो या फिर अनुसूचित जाति पर  अन्याय अत्याचार  हो रहा हो तो समाजिक चेतना आई है जब डा भीम राव अम्बेडकर जी जो इस देश के संविधान रचेता शोषित समाज को जगाने वाले जाति भेदभाव को मिटाने वाले डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के लागे प्रतीमाओ या छाया चित्रो पर कोई आंच आती है तो दलित समाज संघर्ष के लिए तैयार रहता है। लेकिन डबरा विधानसभा में विधायक दलित समाज से होने के वाद भी डा बी आर अम्बेडकर जी का अपमान होता ही रहा है। लेकिन अब तो डा बीआर अंबेडकर जी से जहा पर वरिष्ठ अधिकारी कर्मचारी आ रहे हैं वह के ऑफिस में अभी डा अम्बेडकर जी छायाचित्र देखकर उनके छायाचित्र को हटा दिया जाता है चाहे वह डबरा का भी आर सी कार्यालय हो या डाक घर विभाग हो  डबरा में सन् 1980 से डाक घर बना हुआ है इसमें कई अधिकारी आऐ और रिटायर भी हो गये लेकिन डा अम्बेडकर जी के छायाचित्र को किसी भी अधिकारी ने नहीं डाकघर की चाहे रंगरोगन कराया हो तो भी छाया चित्र हटावाया लेकिन जो आज के डाकघर के अधिकारीगणो व कुछ कर्मचारियों ने तो डा अम्बेडकर जी की जहा डाक विभाग अधिकारी के ठीक पीछे की दीवार पर कई वर्षों से लगी डा अम्बेडकर जी की तस्वीर हटा दी गई थी इसका सोशल मीडिया बेबसाइटो प्रिंट मीडिया इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर  खबरों का प्रसारण हुआ तो अनुसूचित जाति के लोगों में चेतना जागृत हुई और भीम आर्मी के डबरा के पदाधिकारी गण  और सदस्य जाटव समाज के लोग डा अम्बेडकर जी की चित्र की तस्वीर डबरा डाकघर में लगाने के लिए पोस्ट मास्टर को भेंट की गई लेकिन भेंट करने के बाद तस्वीर के ऊपर पोस्ट मास्टर ने जूते पहनकर माल्यार्पण  की और भीम आर्मी के सदस्य समाज बंदू देखते रह गये ।  जबकि किसी भी धर्म या मजहब कोई भी धर्म के महापुरुष हों अगर उनके चित्रों पर माल्यार्पण कर रहे हैं तो सबसे पहले जूते उतारकर उनको सम्मान किया जाता है लेकिन पोस्ट मास्टर ने तो जूते पहनकर ही माल्यार्पण कर दिया इतनी छोटी सोच है की समाज में  छोटी मानसिकता रखते हैं इसलिए उसने पहले तीस साल पुरानी तस्वीर डा अम्बेडकर की हटाया और पुताई का बहाना बनाकर लोगों को गुमराह करने लगा था ऐसे अधिकारी को  जो महापुरुषो का अपमान करे उसको संविधान के तहत  मामला दर्ज होना चाहिए ।जब इस बात का फोटूओ व मिडिया के माध्यम से पता चला तो कांग्रेस के अनुसूचित जाति विभाग के प्रदेश संयोजक महाराज सिंह राजौरिया ने कहा जिस अधिकारी कर्मचारी ने डबरा डाकघर में  डा अम्बेडकर जी की तस्वीर पर जूते पहनकर माल्यार्पण किया है तो यह ग़लत है और ऐसे अधिकारी कर्मचारीयों पर कार्यवाही होना चाहिए ऐसा करने वाले लोगो मानसिकता बहुत ही गलत है हम डाकविभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व केंद्र सरकार व राज्य सरकार से मांग करते हैं ।
 
Comments
Popular posts
डंपर की चपेट में आने से कमलसिंह उसकी मौत पीछे बैठी केला देवी पत्नी कमल सिंह कुशवाहा गंभीर रूप से घायल लगाया जाम प्रशासन अधिकारी व पूर्व मंत्री, आजाद समाज पार्टी कांशीराम के पदाधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे दिलाया आर्थिक सहायता ।
Image
पेट का दर्द दिखाने महिला डॉक्टर को मुरार सरकारी हॉस्पिटल में गई तो डाक्टर ने प्रेगनेंसी के बारे में पूछा लिया कब से हो प्रेग्नेंट युवती जवकि अनमैरिड है युवती ने प्रेगनेंट बारे में केसे पुछा और विरोध किया तो महिला डाक्टर ने गलत शब्दों का इस्तेमाल किया। जिसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज की जांच शुरू । इस मामले को लेकर बड़े बड़े मीडिया ने महिला डाक्टर का वचव पछ छापा गया।
Image
डाक विभाग के अधिकारियों ने मिलकर हटाई वर्षों से लगी डा भीमराव अंबेडकर जी की तस्वीर ।
Image
प्रदेश में अनुसूचित-जाति वर्ग की छात्राओं के लिये 10 छात्रावासों की मंजूरी ।
Image