छिंदवाड़ा सौंसर।नन्दी का दूध पीना वैज्ञानिक कारण-शेंडे
छिंदवाड़ा,सौंसर।आज पूरे अंचल में नन्दी को दूध पिलाने की खबरें आती रही। इस घटना पर अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति के पूर्व संगठक एस. आर. शेंडे ने प्रतिक्रिया में बताया कि,नन्दी का दूध या पानी पीना संभव नहीं है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण है। संसार में कोई चमत्कार नहीं होता, बल्कि ऐसी घटनाएं कार्यकारण सिद्धांत पर आधारित होती है। नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने एक प्रयोग के जरिए किसी भी मूर्ति द्वारा दूध या पानी पीने की घटना की व्याख्या करते हुए सिध्द किया कि,कोई भी प्रतिमा दूध नहीं पीती। बल्कि द्रव्यों की गति ,पृष्ठ तनाव,आसंजन और सम्बद्धता जैसे भौतिक गुणों के कारण ऐसा प्रतीत होता है। पृष्ठ तनाव यानी सरफेस टेंशन द्रव्यों का वह गुण है जिससे वह अपने क्षेत्रफल  को कम से कम  बनाएं रखने क़ा प्रयास करता है।अगर किसी बन्द किये नल की टोंटी से टपकती बूँद को स्पर्श किया जाय तो वह सरक कर हाथ में आ जाती है। इसी प्रकार दूध से भरे चम्मच को बाहर निकली आकृति वाली मूर्ति से स्पर्श करें तो दूध का पृष्ठ तनाव  ऊपर की ओर  खींचता है।गुरुत्वाकर्षण के कारण दूध मूर्ति  से नीचे की ओर सरक जाता है। आस्था के कारण  नीचे जाते दूध पर ध्यान नहीं दिया जाता।
टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
डबरा।विधायक सुरेश राजे सहित अनेक समाज सेवीयो ने दी जननायक समाज सेवी स्व श्री इन्द्र सिंह राजौरिया को श्रद्धांजलि ।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र