छिंदवाड़ा सौंसर।नन्दी का दूध पीना वैज्ञानिक कारण-शेंडे
छिंदवाड़ा,सौंसर।आज पूरे अंचल में नन्दी को दूध पिलाने की खबरें आती रही। इस घटना पर अंधश्रध्दा निर्मूलन समिति के पूर्व संगठक एस. आर. शेंडे ने प्रतिक्रिया में बताया कि,नन्दी का दूध या पानी पीना संभव नहीं है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण है। संसार में कोई चमत्कार नहीं होता, बल्कि ऐसी घटनाएं कार्यकारण सिद्धांत पर आधारित होती है। नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने एक प्रयोग के जरिए किसी भी मूर्ति द्वारा दूध या पानी पीने की घटना की व्याख्या करते हुए सिध्द किया कि,कोई भी प्रतिमा दूध नहीं पीती। बल्कि द्रव्यों की गति ,पृष्ठ तनाव,आसंजन और सम्बद्धता जैसे भौतिक गुणों के कारण ऐसा प्रतीत होता है। पृष्ठ तनाव यानी सरफेस टेंशन द्रव्यों का वह गुण है जिससे वह अपने क्षेत्रफल  को कम से कम  बनाएं रखने क़ा प्रयास करता है।अगर किसी बन्द किये नल की टोंटी से टपकती बूँद को स्पर्श किया जाय तो वह सरक कर हाथ में आ जाती है। इसी प्रकार दूध से भरे चम्मच को बाहर निकली आकृति वाली मूर्ति से स्पर्श करें तो दूध का पृष्ठ तनाव  ऊपर की ओर  खींचता है।गुरुत्वाकर्षण के कारण दूध मूर्ति  से नीचे की ओर सरक जाता है। आस्था के कारण  नीचे जाते दूध पर ध्यान नहीं दिया जाता।
टिप्पणियाँ
Popular posts
डबरा। पुलिस ने गुंडों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान , पुलिस शराब की दुकान के सामने खड़ी करें डायल 100 जिससे शराबियों में भी रहेगा पुलिस का खौफ अपराधो पर लगेगा प्रश्न चिन्ह।
चित्र
भोपाल।शिकायतों के आधार पर हटेंगे कर्मचारी तीन वर्ष से एक ही स्थान पर जमे हैं अफसरों के तबादले पर चुनाव आयोग की राहत।
चित्र
ग्वालियर।(9425734503) बहुजन समाज के हितों की लड़ाई के लिए हुआ समतामूलक समाज पार्टी किया गठन, बने राष्ट्रीय अध्यक्ष डा रावण वर्मा ।
चित्र
तनुश्री दत्ता ने आज कंहा नाना पाटेकर मतलब दुसरा आसाराम बापू । रिपोर्ट : के.रवि ( दादा ) 
चित्र
दतिया।दतिया का विकास का रथ अब नहीं रुकेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान, मुख्यमंत्री जी ने रचा इतिहास --डा मिश्रा।
चित्र