नववर्ष का आगाज

आओ! करें नमन नववर्ष का 
भूल पुरानी यादों के समंदर को
 मना ले नवल का त्यौहार
 मिलझूल झूमे गीत गाए।

 भूले दुःख -दर्द बीते वर्ष के 
माफ करे दिए कष्ट जिन्होंने 
इस नववर्ष की बेला पर 
बना लेते हैं शत्रु को भी मित्र ।

 चलेंगे संग में पुराने सखा 
भुला देंगे दुःख भरी यादों को 
अपनों का आशीर्वाद साथ में 
नववर्ष को लगा लो गले ।

शीत- ऋतु की ठंड में करें आगाज
 मन के मतवाले बन छा जा जग में 
एक- दूजे का साथ निभा ले दोस्ती
 आलस त्याग संघर्ष को लगाओ गले ।

सीमा रंगा इन्द्रा हरियाणा
स्वरचित रचना
टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
डबरा।विधायक सुरेश राजे सहित अनेक समाज सेवीयो ने दी जननायक समाज सेवी स्व श्री इन्द्र सिंह राजौरिया को श्रद्धांजलि ।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र