दिल्ली। कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कितना लंबा रहता है, क्रूर शेर अंततः बुरी तरह मर जाता है। लेखक आईपीएस अधिकारी म.प्र.
 कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कितना लंबा रहता है, क्रूर शेर अंततः बुरी तरह मर जाता है।
        यही दुनिया है।
    बड़ी बिल्लियाँ, हालांकि शक्तिशाली और डरावनी दिखाई देती हैं, लेकिन वे समान रूप से कमजोर होती हैं, कुछ ही अपने गौरव की रक्षा करते हुए चोटों से मर जाती हैं।  मरते-मरते रह जाते हैं, आयु से दुर्बल हो जाते हैं।
      अपने शिकार करियर के अपने चरम पर, वे शासन करते हैं, शक्तिशाली अन्य डरे हुए जानवरों को देते हैं, उन्हें पकड़ते हैं, खा जाते हैं, निगलते हैं और फिर हाइना और अन्य मैला ढोने वालों के लिए अपनी अंतड़ियों और टुकड़ों को छोड़ देते हैं, जितनी जल्दी या बाद में उम्र पकड़ लेती है, बल्कि यह तेजी से आता है।
तब बूढ़ा शेर शिकार नहीं कर सकता, न मार सकता है और न ही अपना बचाव कर सकता है।  यह घूमता है और दहाड़ता है, दहाड़ता हुआ खोखला होता है, जब तक कि यह भाग्य से बाहर नहीं हो जाता।  अंत में वह लकड़बग्घे द्वारा घेर लिया जाता है, उन्हें कुतर दिया जाता है और उनके द्वारा जीवित खा लिया जाता है।  वे इसे मरने भी नहीं देंगे, इससे पहले कि यह अंग-अंगों से अलग-अलग हो जाए।
 कहानी का मनोबल-
    जिंदगी छोटी है।  शक्ति क्षणभंगुर है।  मैंने इसे शेरों में देखा है।  मैंने इसे पुराने लोगों में देखा है, तथाकथित पूर्व-शक्तिशाली, और इसी तरह। हर कोई जो लंबे समय तक रहता है वह किसी न किसी बिंदु पर बहुत कमजोर हो जाएगा।  इसलिए आइए हम विनम्र और दयालु बनें। बीमारों, कमजोरों, कमजोरों की मदद करें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कभी न भूलें कि हम सभी को एक दिन मंच छोड़ना है।
   "चंद लम्हों का खेल"
        'भोर की तरैया'
 "पानी केरा बुदबुदा"
लेखक माननीय श्री राजाबाबू सिंह आईपीएस अधिकारी मध्य प्रदेश
टिप्पणियाँ
Popular posts
डबरा। पुलिस ने गुंडों के खिलाफ चलाया विशेष अभियान , पुलिस शराब की दुकान के सामने खड़ी करें डायल 100 जिससे शराबियों में भी रहेगा पुलिस का खौफ अपराधो पर लगेगा प्रश्न चिन्ह।
चित्र
भोपाल।शिकायतों के आधार पर हटेंगे कर्मचारी तीन वर्ष से एक ही स्थान पर जमे हैं अफसरों के तबादले पर चुनाव आयोग की राहत।
चित्र
ग्वालियर।(9425734503) बहुजन समाज के हितों की लड़ाई के लिए हुआ समतामूलक समाज पार्टी किया गठन, बने राष्ट्रीय अध्यक्ष डा रावण वर्मा ।
चित्र
डबरा। बहुजन समाज के वरिष्ठ समाजसेवी दादा कन्हैयालाल मल्होत्रा छोड़ा वाले जी का आकस्मिक निधन समाज को हुई छति।
चित्र
तनुश्री दत्ता ने आज कंहा नाना पाटेकर मतलब दुसरा आसाराम बापू । रिपोर्ट : के.रवि ( दादा ) 
चित्र