दतिया।गृह मंत्री ने जिला चिकित्सालय पहुंचकर मेडीकल ऑक्सीजन प्लांट का किया निरीक्षणचिकित्सकों से व्यवस्थाओं के संबंध में ली जानकारी
 
गृह मंत्री ने जिला चिकित्सालय पहुंचकर मेडीकल ऑक्सीजन प्लांट का किया निरीक्षण
चिकित्सकों से व्यवस्थाओं के संबंध में ली जानकारी

दतिया।मध्यप्रदेश शासन के गृह, जेल, संसदीय कार्य, विधि विधायी कार्य विभाग के मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने जिला चिकित्सालय परिसर में स्थिम मेडीकल ऑक्सीजन प्लांट (संयत्र) का निरीक्षण कर संबंधित चिकित्सों से चर्चा कर कोरोना की तीसरी लहर की संभावना हो देखते हुए जिले में की गई तैयारियों के संबंध में जानकारी प्राप्त की।गृह मंत्री ने कहा कि दतिया जिला मेडीकल ऑक्सीजन निर्माण के मामले में आत्म निर्भर हो गया है। आज जिले में स्थिति यह है कि हम ऑक्सीजन अन्य जिलों को देने की स्थिति में है उन्होंने कहा कि कोरोना काल की द्धितीय लहर के दौरान जिले में ऑक्सीजन के साथ-साथ वेंटीलेटर, बैड आदि की कोई कमी नहीं होने दी। कोराना काल में स्थिति इस प्रकार की थी अन्य स्थानों के लोग जिले में उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधाओं से प्रभावित होकर अपना उपचार कराने जिला चिकित्सालय आए और स्वस्थ्य होकर अपने घर वापिस गए।गृह मंत्री ने मेडीकल कॉलेज के डीन डॉ. राजेश गौर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरबी कुरेले, सिविल सर्जन डॉ. केसी राठौर सहित संबंधित चिक्त्सिकों से मेडीकल लिक्विड ऑक्सीजन संयत्रों के बारे में चर्चा कर जानकारी ली गई। इस दोरान बताया गया कि जिला चिकित्सालय परिसर में स्थित एक ऑक्सीजन निर्माण संयत्र से एक हजार लीटर प्रति मिनिट के मान से जबकि दूसरे संयंत्र से 600 लीटर प्रति मिनिट के मान से मेडीकल लिक्वि़ड़ ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है। इस दौरान बताया गया कि सेवढ़ा में भी 300 लीटर प्रति मिनिट ऑक्सीजन निर्माण का संयत्र शुरू किया जा चुका है। इस दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए जिले में सभी तैयारियां कर ली गई है। 295 बैड़ों पर ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्स्था की गई है। 40 बैड़ का आईसीयू बच्चों के लिए और 45 बैड़ का आईसीयू व्यस्कों के लिए बनाया गया है। उन्होंने 6 केएल ऑक्सीजन क्षमता का एलएमओ टैक के बारे में जानकारी दी।इस अवसर पर सर्वश्री योगेश सक्सैना, प्रशांत ढेंगुला, गिन्नी राजा परमार, श्रीमती सावित्र सूत्रकार, श्रीमती कुमकुम रावत, बलदेव राज बल्लू, अजय जैन, अजय दुबे, पुनीत टिलवानी आदि उपिस्थत थे।
टिप्पणियाँ