जिला बहुजन समाज के इस गणेशराम मोची के कौन दिलाऐगा न्याय , सभी बहुजन समाज के नेता समान्य नेताओं के आगे नतमस्तक हो चुके है।
 छत्तीसगढ़।जिला बालोद तहसील डौडी के ग्राम सूरडोगर मे मानव समाज को शर्मसार करने वाली घटना जिसमें ग्राम के प्रमुख सरपंच एवं दबंगई ग्रामीणों के चलते लाठी डंडे एवं लात घुसे से मार-मार कर एक परिवार को उनके ही घर से बेघर कर दिया गया और पुरा घर को तोड़ दिया जहां पर पीड़ित व्यक्ति गणेश राम बघेल जाति अनुसूचित जाति उम्र- 40 के साथ साथ उनके परिवार में उनकी पत्नी रुखमणी -38 एवं तीन बच्चों के साथ उनका पूरा परिवार 2005  से उस गांव में रह रहे है एवं रोजी मजदूरी का कार्य कर अपने परिवार का जीवन यापन कर रहे थे जहां पर 30 जनवरी22 को सरपंच कोमेस कोर्राम( कांग्रेस ब्लाक अध्यक्ष डौंडी ), ग्राम के उपसरपंच एवं समस्त पंच गण के साथ साथ ग्रामवासी लाठी-डंडों के साथ गणेश राम के घर पहुंच गए ,उनके और उनके पूरे परिवार वालों को घसीट कर घर के बाहर खींच कर निकाला और उनके उपर लात घुसे और लाठी-डंडों से ताबड़तोड़ हमला कर दिया और उनके साथ मारपीट कर जातिगत गाली गलौज  करने लगे और कहने लगे तुम मोची लोग इस गांव को छोड़कर चले जाओ इस गांव में तुम लोगों के लिए कोई भी जगह नहीं है और तुम्हें इस गांव में रहने नहीं देंगे, पूरे गांव वाले को एक साथ हमला करते हुए देख आपना जान बचा कर पूरा परिवार डर कर भागने लगा और पुलिस थाने पहुंचकर इस मामले की संपूर्ण जानकारी दिया। एसपी  जिला कलेक्टर , गृहमंत्री के नाम पर आवेदन पत्र दिए गए थे लेकिन अबतक कोई कार्यवाही नहीं थाने दार ने की न ही प्रशासन अधिकारी कर्मचारी ने और बहुजन समाज के लोगों ने भी मदद कै लिए आगे नहीं आए अब गणेश राम मोची थाने में परिवार कै साथ धरना दे रहे हैं और एसपी ने गणेशराम मोची को घमकी दी की अगर तुम सरपंच एवं अन्य लोगों से राजीनामा कर लो नहीं तो तुम्हारे साथ पुरे परिवार को विभिन्न धाराओ में केस दर्ज कर जेल भेज देंगे । सभी मिडिया के लोग भी मजदूर अनुसूचित जाति वर्ग के खिलाफ उल्टा सीधा प्रसारण कर रहे हैं। उसकी आवाज को दवा रहे हैं बहुजन समाज के नेता मजदूर आदमी की मदद करने आगे नहीं आ रहे वल्कि समान्य नेताओं का सभी दलों के बहुजन समाज के नेता साथ दूं रहे हैं लेकिन गणेशराम मोची थाने में डा अम्बेडकर जी की छाया चित्र को साथ लेकर परिवार के साथ धरने पर बैठे हैं लेकिन अब मजदूर गणेशराम मोची के साथ बहुजन समाज के कितने साथ इस धरने के समर्थन में 
टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर(एम एस बिशौटिया संपादक)फूल सिंह बरैया की बेटी की शादी का अनोखा कार्ड चर्चा में।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र