खरगोन।महाशिवरात्रि पर्व पर अनुसूचित जाति वर्ग की पूजा-अर्चना नहीं करने पर महिला सहित एसपी कार्यालय पहुंचे तब पुजारी व दो समान्य महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज। भाजपा नेता पदाधिकारी मंत्री पुजारी को बचाने में लगे है इसलिए पुलिस ने नहीं की गिरफ्तारी।
 खरगोन।9425734503 पंंचमहलकेसरी ।ग्राम पंचायत टेमला मे माहशिवरात्रि पर एक अनुसूचित जाति की युवती को महादेव की पूजा करने से रोक दिया गया। पुजारी ने युवती को मंदिर में एंट्री नहीं दी। इस घटना को लेकर जमकर बवाल मचा है। मामला टेमला गांव का है। महाशिवरात्रि पर जब युवती पूजन करने मंदिर पहुंची, तो पुजारी ने उसे भीतर जाने से रोक दिया। पुजारी के साथ दो महिलाएं भी उसे भीतर नहीं जाने का कहने लगीं। युवती पूजा करने देने की गुहार लगाती रही। संविधान की दुहाई देती रही। पुलिस को बुलाने की भी बात कही। लेकिन उसकी एक नहीं सुनी गई। युवती कहती रही कि संविधान में कहां लिखा है कि यह सिर्फ तुम्हारे भगवान हैं। इस मामले में गुरुवार को युवती के साथ अनुसूचित जाति के लोग एसपी ऑफिस पहुंचे और विरोध जताया। जिसके बाद मेनगांव पुलिस ने पुजारी के साथ ही दो महिलाओं पर एससी-एसटी एक्ट एवं मंदिर में पूजा अर्चना नहीं करने का केस दर्ज किया है।

काफी देर बहस के बाद युवती को जबरन घुसना पड़ा

महाशिवरात्रि के दिन पूजा खांडे नाम की युवती शिव मंदिर में पूजन करने पहुंची थी। वह जब मंदिर में प्रवेश करने लगी तो पुजारी ने उसे बाहर ही रोक दिया। वह भीतर जाने लगी तो दो महिलाएं भी उसे रोकने लगीं। उसने पुलिस बुलाने का कहा तो, कहने लगीं बुला ले, पर मंदिर के भीतर नहीं जाना। काफी देर तक बहस के बाद उसे जबरन पूजन के लिए मंदिर में घुसना पड़ा। पुजारी ने उसे रोकने की कोशिश भी की। इस दौरान यहां मौजूद लोगों ने वीडियो बना लिया। यह वीडियो सामने आने के बाद बवाल मच गया। गुस्साए समाजजन एसपी कार्यालय पहुंचे। उन्होंने नारेबाजी कर न्याय की मांग की

संविधान में कहां लिखा ही हमें पूजा करने से रोका जाए

पीड़िता का कहना है कि पंडित मंदिर में नहीं जाने दे रहे थे। हमें मंदिर में पूजा करने का अधिकार चाहिए, संविधान में कहां लिखा कि हम मंदिर नहीं जा सकते। उस वक्त 100 से 200 लोग देख रहे थे। उसके बावजूद भी कुछ नहीं कहा। मंदिर में जाने का सभी को हक है।

तीनों की जल्द होगी गिरफ्तारी
एसपी सिद्धार्थ चौधरी का कहना एक मार्च को वीडियो सामने आया था। टेमला की युवती को मंदिर में पूजा करने से रोका है। मामले में तीन के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट एवं मंदिर में पूजा अर्चना नहीं करने का केस दर्ज किया है।शीघ्र गिरफ्तारी करेंगे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
ग्वालियर। प्रदेश सरकार की शोषणकारी नीति के शिकार अतिथि विद्वान 96 दिन से बरसात और कड़कड़ाती ठंड में फूलबाग चौराहे ग्वालियर मे कर रहे आंदोलन , सरकार का ध्यान नहीं।
चित्र
ग्वालियर।नवागत कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह ने कार्य भार संभाला।तहसीलदार से अपर कलेक्टर तक पहुंचे एचपी शर्मा का ग्वालियर से आजतक ताबदला क्यों नहीं ।एक ही जिले मे रिटायरमेंट तक रहेंगे क्या।
चित्र
ग्वालियर(एम एस बिशौटिया संपादक)फूल सिंह बरैया की बेटी की शादी का अनोखा कार्ड चर्चा में।
चित्र
ग्वालियर/छतरपुर- पशु चिकित्स ने अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की महिला के साथ किया गलत काम, जेल में सजा कटने के बाद विभाग ने नहीं किया निलंबित विभागों के अधिकारियों एवं नेताओं के आशीर्वाद से पशु डाक्टर धड़ल्ले से कर रहा है नौकरी । पंडित महिला न्यायालय में दर दर भटक रही है।
चित्र
जाटव समाज का इतिहास, जाटव यदुवंशी है ।
चित्र